पिछले 11 दिनों से कृषि विधेयक के खिलाफ जारी किसानों के आंदोलन का सोमवार को 12वां दिन है। यह आंदोलन व्यापक रूप लेता जा रहा है। इस क्रम में मंगलवार, 8 दिसंबर को किसानों ने भारत बंद का ऐलान किया है जिसे विपक्षी पार्टियों का पूरा समर्थन प्राप्‍त है। कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी व महाराष्‍ट्र, बिहार, तमिलनाडु, उत्‍तर प्रदेश व जम्‍मू-कश्‍मीर की 10 पार्टियों ने संयुक्‍त बयान जारी कर भारत बंद को अपना समर्थन दिया है।

कल बंद नहीं होगा देश का कारोबार: CAIT

व्‍यापारियों के संगठन कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) के सेक्रेटरी जनरल प्रवीण खंडेलवाल (Praveen Khandelwal) ने कहा, ‘ कल के भारत बंद में भारत के ट्रेडर व ट्रांसपोर्टर नहीं शामिल होंगे। हमें जारी वार्ता प्रक्रिया पर पूरा भरोसा है।’ उन्‍होंने कहा, ‘किसानों की ओर से भारत बंद के मामले में हमसे किसी तरह का समर्थन नहीं मांगा गया है। ऐसे में जब केंद्र व किसान नेताओं की वार्ता चल रही है तो बंद का कोई औचित्य नहीं है।’ उन्होंने आगे कहा की किसानों के साथ व्यापारियों एवं ट्रांसपोर्टरों की सहानुभूति है क्‍योकि वे देश की अर्थव्यवस्था का अहम हिस हैं लेकिन हमें भरोसा है की सरकार और किसान नेताओं के बीच जारी वार्ता का सकारात्‍मक परिणाम आएगा।

भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्‍ता राकेश टिकैत ने कहा, ‘हमारा प्रदर्शन शांतिपूर्ण है और हम इसे ऐसे ही जारी रखेंगे। कल का भारत बंद सुबह 11 बजे से दोपहर 3 बजे तक होगा। यह हमारा विरोध प्रदर्शन है जिसके जरिए हम यह बताना चाहते हैं कि हम भारत सरकार की पॉलिसी के विरोध में हैं।’ उन्‍होंने आगे कहा, ‘आम जनता को इससे परेशानी न हो इसलिए भारत बंद की शुरुआत सुबह 11 बजे से होगी ताकि वे समय पर ऑफिस पहुंच सके। ऑफिस में वर्क आवर 3 बजे खत्‍म हो जाता है। एंबुलेंस और विवाह समारोहों को बाधित नहीं किया जाएगा। लोग अपना कार्ड दिखाकर काम के लिए जा सकते हैं।’  दिल्‍ली पुलिस के पीआरओ आइश सिंघल ( Eish Singhal, Delhi Police PRO) ने बताया, ‘दिल्‍ली पुलिस ने कल के भारत बंद के मद्देनजर पर्याप्‍त इंतजाम कर लिए हैं। हम इस बात को सुनिश्‍चित करने की कोशिश कर रहे हैं कि देश की जनता पूरी तरह सुरक्षित रहे।’