उत्‍तर भारत के कई राज्‍यों में भूकंप के तगड़े झटके, 6.3 मापी गई तीव्रता

दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे उत्तर भारत में शुक्रवार की रात भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। रात 10:31 बजे आए भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 6.3 मापी गई। इसका केंद्र ताजिकिस्तान में जमीन से करीब 90 किलोमीटर नीचे था। राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र (National Centre for Seismology, NCS) के मुताबिक भूकंप के झटके लगते ही लोग घरों से निकल आए। खबर लिखे जाने तक किसी तरह के जानमाल के नुकसान की खबर नहीं है।

भूकंप विज्ञान विभाग से हुई गलती 

भूकंप विज्ञान विभाग ने पहले गलती सेे कह दिया था कि दो बार भूकंप आया। पहली बार रात 10:31 बजे और फिर उसके तीन मिनट बाद 10:34 बजे। उसने दूसरे भूकंप का केंद्र अमृतसर के पास बताया, जिसकी तीव्रता 6.1 थी। लेकिन बाद में पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के सचिव एम राजीवन ने कहा कि सिस्टम में गड़बड़ी से ऐसा हुआ। बाद में उसे सुधार दिया गया। एक बार भूकंप आया, जिसका केंद्र ताजिकिस्तान में था।

भूकंप का एक ही झटका आया : एनसीएस

राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र (National Centre for Seismology, NCS) के संचालन प्रमुख जेएल गौतम ने कहा ने कहा कि भूकंप का एक ही झटका आया है। इसका केंद्र ताजिकिस्तान था। शुरुआती जांच में पता चला था कि केंद्र अमृतसर था। अब हमने उस जानकारी को संशोधित किया है।

इन राज्‍यों में महसूस हुए झटके  

समाचार चैनलों के मुताबिक भूकंप के झटके उत्‍तर प्रदेश, पंजाब, जम्‍मू-कश्‍मीर, हरियाणा, राजस्‍थान, गुजरात, समेत उत्‍तर भारत के कई इलाकों में महसूस किए गए हैं। जान-माल के नुकसान की कोई खबर सामने नहीं आई है।

राहुल गांधी कर रहे थे शिकागो के छात्रों से बात

भूकंप के जब झटके महसूस किए गए उस समय कांग्रेस नेता राहुल गांधी नई दिल्ली से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए शिकागो विश्वविद्यालय के छात्रों से बातचीत कर रहे थे। भूकंप के झटके लगते ही उन्हें कहते सुना गया कि उनका पूरा कमरा हिल रहा है।

ताजा हुई साल 2005 में आए भूकंप की यादें 

नेशनल कॉन्‍फ्रेंस (National Conference, NC) के नेता उमर अब्दुल्ला ने कहा कि भूकंप ने साल 2005 में आए भूकंप की यादें ताजा कर दी। श्रीनगर में भूकंप के तगड़े झटके ने मुझे घर से बाहर निकालने के लिए विवश कर दिया। मैं एक कंबल पकड़ा और घर से बाहर भागा। इस दौरान मुझे अपना फोन लेना भी याद नहीं था इसलिए ‘भूकंप’ ट्वीट करने में असमर्थ रहा जबकि धरती हिल रही थी।

पंजाब के मुख्‍यमंत्री बोले- हालात पर है करीबी नजर 

पंजाब के मुख्‍यमंत्री अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) ने ट्वीट कर कहा कि भूकंप से जानमाल के नुकसान की कोई रिपोर्ट नहीं है। राज्‍य के पुलिस अधिकारी और स्‍थानीय प्रशासन के लोग हालात पर करीबी नजर बनाए हुए हैं। मेरी प्रार्थना है कि सभी लोग सकुशल रहें।

केजरीवाल ने लोगों की सलामती की प्रार्थना की 

दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल और राजस्‍थान के गवर्नर कलराज मिश्र (Kalraj Mishra) ने लोगों की सलामती की कामना की। भूकंप से राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली समेत अनेक स्थानों पर लोगों में दहशत फैल गई। गाजियाबाद के वैशाली और वसुंधरा तथा अन्य इलाकों में भूकंप की दहशत के चलते लोग घरों से बाहर निकल आए।

ऐसा लगा कि कोई कुर्सी जोर से हिला रहा

चंडीगढ़ में आदित्य नामक 11वीं के छात्र ने कहा कि वह अपनी परीक्षा के लिए तैयार कर रहा था। तभी भूकंप के झटके लगे। लेकिन उसे लगा कि जैसे उसकी कुर्सी पकड़कर कोई उसे जोर-जोर से हिला रहा है।

पाकिस्‍तान में 6.4 मापी गई तीव्रता 

समाचार एजेंसी पीटीआइ ने बताया है कि पाकिस्‍तान में भी भूकंप के तगड़े झटके महसूस किए गए। पाकिस्‍तान में आए भूकंप की तीव्रता 6.4 मापी गई। नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी (National Seismic Monitoring Centre, NSMC) के मुताबिक ताजिकिस्‍तान में आए भूकंप का केंद्र जमीन से 80 किलोमीटर नीचे रहा। भूकंप के झटके पाकिस्‍तान में राजधानी इस्लामाबाद और खैबर-पख्तूनख्वा के प्रमुख शहरों, पंजाब प्रांत और गुलाम कश्मीर में महसूस किए गए।

पाक में कुरान पढ़ते दिखे लोग 

समाचार एजेंसी पीटीआइ ने बताया है कि पाकिस्‍तान में भूकंप के तगड़े झटकों के बाद लोग घरों से बाहर भागते दिखाई दिए। पाकिस्‍तान के न्‍यूज चैनलों ने लोगों को पवित्र कुरान की आयतें पढ़ते हुए दिखाया। पाकिस्‍तान से अभी तक किसी भी तरह के जान-माल के नुकसान की सूचना नहीं है।

इसलिए आते हैं भूकंप 

भूगर्भ वैज्ञानिकों के मुताबिक टेक्टोनिक प्लेटों में तेज हलचल के चलते भूकंप आते हैं। इसके अलावा उल्का प्रभाव और ज्वालामुखी विस्फोट, माइन टेस्टिंग और न्यूक्लियर टेस्टिंग भी भूकंप की वजहें होती हैं।

पाकिस्‍तान में चमन फॉल्‍ट बड़ा खतरा 

भूकंप के लिहाज से पाकिस्‍तान बेहद संवेदनशील है। पाकिस्तान भूगर्भीय रूप से यूरेशियन और भारतीय टेक्टोनिक प्लेटों को ओवरलैप करता है। समाचार एजेंसी पीटीआइ की रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्‍तान में चमन फाल्ट को सबसे बड़ा खतरा माना जाता है। पाकिस्‍तान में साल 2005 में 7.6 तीव्रता के आए भूकंप में 73 हजार से ज्‍यादा लोगों की मौत हुई थी।

सुबह राजस्‍थान में आया था भूकंप 

इससे पहले आज ही राजस्‍थान में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक राजस्‍थान में आए भूकंप की तीव्रता रिक्‍टर पैमाने पर तीन 4.3 मापी गई थी। राजस्‍थान में सुबह 08:01 मिनट पर आए भूकंप का केंद्र बीकानेर के 420 किलोमीटर उत्‍तर पश्चिम में था। ताजा अपडेट के लिए बने रहे Ab2news के साथ…

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button



जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Close
Website Design By Bootalpha.com +91 82529 92275
.