हेमंत सोरेन को NDA में शामिल होने का न्योता

केंद्र सरकार में मंत्री रामदास अठावले ने झारखंड के मुख्‍यमंत्री हेमंत सोरेन को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन यानि एनडीए में शामिल होने का न्योता दिया है। साथ ही उनके प‍िता और झामुमो अध्‍यक्ष शिबू सोरेन को केंद्र सरकार में मंत्री बनाने का ऑफर भी दिया है। कहा है कि इससे झारखंड को केंद्र से आर्थिक मदद मिलेगी। रिपब्लिकन पार्टी आफ इंडिया (आरपीआइ) के अध्यक्ष सह केंद्रीय समाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री रामदास अठावले ने हेमंत सोरेन को यह न्‍योता दिया है।

उन्‍होंने कहा कि ऐसा हुआ तो केंद्र सरकार से झारखंड को योजनाओं के लिए मिलने वाली राशि में दिक्कत नहीं आएगी। शिबू सोरेन को केंद्र सरकार में मंत्री बनाएंगे। रामदास अठावले आज झारखंड के दौरे पर थे। वे रांची में स्टेट गेस्ट हाउस में मीडिया से मुखातिब थे। उन्होंने कहा कि झारखंड मुक्ति मोर्चा अगर एनडीए में शामिल हुआ तो झारखंड को केंद्र सरकार से योजनाओं के मद में मिलने वाला पैसा भी ठीक से मिलेगा। शिबू सोरेन को केंद्र सरकार में मंत्री बनाया जाएगा।

उन्होंने कहा कि पूर्व में शिबू सोरेन एनडीए के साथ रह चुके हैं। हालांकि मंत्री इस सवाल का जवाब नहीं दे पाए कि हेमंत सोरेन अगर एनडीए में शामिल होते हैं तो मुख्यमंत्री कौन बनेगा? उन्होंने कहा कि जब एनडीए में वे शामिल होंगे, तब देखा जाएगा। इस सवाल पर भी उन्होंने कन्नी काट ली, जब उनसे पूछा गया कि एनडीए में नहीं रहने की वजह से झारखंड को केंद्र सरकार से अपेक्षित सहयोग नहीं मिल पा रहा है। केंद्रीय मंत्री ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को नसीहत दे डाली कि वे दलित की बेटी से शादी करें।

ऐसा करने से महात्मा गांधी का सपना पूरा होगा। अठावले ने जाति आधारित जनगणना की वकालत की। कहा, कि इससे जातपात बढ़ने की बात कहने वाले लोग गलत बोलते। घर का बच्चा भी पांच-छह वर्ष की उम्र में अपनी जाति से परिचित हो जाता है। उन्होंने दामोदर घाटी परियोजना (डीवीसी) का नाम डाॅ. भीमराब अंबेदकर के नाम पर करने की मांग की। कहा कि जब वे केंद्र सरकार में सिंचाई मंत्री थे तो उन्होंने इस परियोजना की नींव डाली थी, लिहाजा यह परियोजना उनके नाम करना चाहिए।

मंत्री पद का ख्याल रखें अठावले : कांग्रेस

रामदास अठावले के बयान पर कांग्रेस ने आपत्ति जताई है। प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने कहा कि वे बहकी-बहकी बातें कर रहे हैं। उनके बयान से यह भी स्पष्ट हो गया है कि केंद्र सरकार झारखंड के साथ सौतेला व्यवहार करती है, जो संघीय ढांचे के लिए नुकसानदेह है। रामदास अठावले केंद्रीय मंत्री हैं। उन्हें अपनी गरिमा का ख्याल रखना चाहिए। वे बचकाना बयान देने के आदी रहे हैं। उनकी बयानबाजी मुंगेरी लाल के हसीन सपने की याद दिलाती है।

इससे पूर्व उन्‍होंने झारखंड के रामगढ़ जिले में आरपीआइ के राष्ट्रीय सचिव दिवंगत केआर नायक के परिजनों से भेंट की और पार्टी की ओर से सांत्वना देकर आर्थिक सहायता प्रदान की। नायक की स्मृति में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में उन्हें भावभिनी श्रद्धांजलि अर्पित की गई। कहा कि नायकजी की स्मृति‍ स्मारक के लिए प्रयास करेंगे।