Crime

  • विशाखापट्टनम नौसेना जासूसी मामला: NIA ने दायर किया गुजरात के शख्स के खिलाफ चार्जशीट

    गोधरा में रहने वाला ISI का शख्स NIA के गिरफ्त में है। उसके खिलाफ एजेंसी ने याचिका दायर की है। विशाखापट्टनम जासूसी का मामला एक अंतरराष्ट्रीय रैकेट से संबंधित है जिसमें पाकिस्तान में स्थित और भारत के विभिन्न स्थानों से जुड़े लोग शामिल हैं।

    राष्ट्रीय जांच एजेंसी  (NIA) ने शुक्रवार को बताया कि इसने इमरान याकूब गितेली उर्फ गितेली इमरान (Imran Yakub Giteli aka Giteli Imran) के खिलाफ पूरक चार्जशीट दायर कर दी है। बता दें कि मामले में इमरान याकूब मुख्य आरोपी है। पिछले साल इस मामले में NIA ने भारतीय नौसेना की संवेदनशील जानकारी पाकिस्तान को लीक करने के आरोप में प्रमुख साजिशकर्ता मोहम्मद हारुन हाजी अब्दुल रहमान लकड़ावाला को गिरफ्तार किया था। विशाखापट्टनम जासूसी का मामला एक अंतरराष्ट्रीय रैकेट से संबंधित है, जिसमें पाकिस्तान में स्थित और भारत के विभिन्न स्थानों से जुड़े लोग शामिल हैं।

    जांच एजेंसियों के मुताबिक 2018 के मध्य से विशाखापट्टनम, मुंबई और कारवाड़ बेस पर तैनात सात नौसेना कर्मी ISI हैंडलर को भारतीय नौसेना के जहाजों और पनडुब्बियों के बारे में संवेदनशील सूचनाएं लीक कर रहे थे।

    वर्ष 2019 के दिसंबर में NIA ने जासूसी के इस मामले को अपने हाथ में लिया था। इसके बाद एजेंसी ने पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी को संवेदनशील जानकारी लीक करने के आरोप में भारतीय नौसेना के 7 कर्मियों और एक कथित हवाला ऑपरेटर को भी गिरफ्तार किया था। पुलिस ने कहा था कि गिरफ्तार सभी अधिकारी पाकिस्तानी महिलाओं के संपर्क में थे, जिन्होंने फेसबुक पर उनसे दोस्ती की थी। आरोप है कि अधिकारियों को सूचना उपलब्ध कराने के एवज में हवाला ऑपरेटर के माध्यम से भुगतान किया गया था।

  • 3 વર્ષથી નાસતો ફરતો નેગો એક્ટમાં સજા પડેલ આરોપીને પકડી પાડયો

    છેલ્લા 3 વર્ષથી નાસતો ફરતો નામ કોર્ટ દ્વારા નેગો એક્ટમાં સજા પડેલ આરોપીને પકડી પાડયો

    જુનાગઢ રેન્જના પોલીસ મહાનિરીક્ષકમનીંદર પ્રતાપસિંહ પવાર સાહેબ તથા પોરબંદર પોલીસ અધિક્ષક ર્ડા. રવી.મોહન સૈની સાહેબ દ્વારા પોરબંદરમાં આગામી નગરપાલીકા ચુંટણી અનુસંધાને નાસતા ફરતા તેમજ સજા પડેલ આરોપીઓ પકડાય જેથી કાયદો અને વ્યવસ્થા સુચારૂ જળવાઇ જે બાબતે ખાસ સુચના આપેલ જે અંગે પોરબંદર શહેર વિભાગના નાયબ પોલીસ અધિક્ષક જે.સી કોઠીયા સાહેબ તથા કીર્તિમંદિર પોલીસ સ્ટેશનનાં પોલીસ ઇન્સ્પેક્ટર એચ.એલ.આહિર સાહેબના માર્ગદર્શન મુજબ ડી – સ્ટાફ PSI આર.એલ.મકવાણા દ્વારા ડી – સ્ટાફની ટીમ તૈયાર કરી મેન્યુ.ફ.ક.મેજી.સાની કોર્ટમાં છેલ્લા ૧૩ વર્ષથી નેગોશીએબલ એક્ટ મુજબ બન્ને દેશમાં એક એક વર્ષની સજા પડેલ હોય જે સજાની પકડથી બચવા અલગ અલગ જગ્યાએ નાસતા ફરતા આરોપી વિરુધ્ધ નામદાર કોર્ટ દ્વારા વોરંટ પ્રસિધ્ધ કરતા આરોપીને શોધી કાઢવાની કામગીરી હાથ ધરવામાં આવેલ

    અને ડી, સ્ટાફ ટીમને સયુક્ત રાહે હકિકત મળેલ કે મજકુર આરોપી શામજીભાઈ વેલજીભાઈ હરચડી રહે. માણેકચોક મોટી શાક માર્કેટની સામે જુમ્મા મજીદની ગલીમાં પોરબંદરવાળો આજરોજના રાત્રીના પોતાના રહેણાંક મકાન માણેકચોક શાકમાર્કેટ જુમ્મા મજીદ વાળી ગલીમાં આવનાર હોય જે ચોકક્સ બાતમી આધારે ડી.સ્ટાફની ટીમ મજકુરના ઉપરોક્ત સરનામે વોચમાં રહેલ તે દરમ્યાન આરોપી પોતાના રહેણાક મકાન પર આવતા મજકુર ને નામદાર કોર્ટ દ્વારા નેગોશીએબલ એક્ટ ક.૧૩૮ મુજબના કામે સજા થયેલ,

    બન્ને વોરંટની સમજ કરી છેલ્લા ૩ વર્ષથી પોતાની પકડથી બચવા નાસતો ફરતો આરોપી શામજીભાઈ વેલજીભાઈ હરચડી રહે. માણેકચોક મોટી શાક માર્કેટની સામે જુમ્મા મજીદની ગલીમાં પોરબંદરવાળાને પકડી આરોપીનો કોવિડ -૧૯ નો જરૂરી ટેસ્ટ કરાવી આરોપીને નામદાર કોર્ટ રજુ કરેલ છે આમ છેલ્લા ૭૩ વર્ષથી સજા પડેલ અને પોતાની પકડથી બચવા નાસતો ફરતો રહેનાર આરોપીને શોધી કાઢી પ્રસંનીય કામગીરી કીર્તિમંદિર પો.સ્ટે. ડી-સ્ટાફ ટીમ દ્વારા કરવામાં આવેલ છે.

    સદરહું કામગીરી PI શ્રીએચ એલ.આહિર તથા PSI શ્રી આર એલ મકવાણા તથા HC મુકેશ કે માવદીયા, બી. પી. કારેણા તથા Pc ભરત શીંગરખીયા, ભીમાભાઇ ઓડેદરા, અરવીંદ કાનાભાઇ દ્વારા કરવામાં આવેલ છે .

  • भगोड़े नीरव मोदी का प्र‌र्त्यपण होगा या नहीं, कल होगा फैसला

    भारत से भागे हीरा कारोबारी नीरव मोदी का प्रत्यर्पण होगा या नहीं, इसका फैसला गुरुवार को हो जाएगा। नीरव मोदी इस समय लंदन की वैंड्सवर्थ जेल में बंद है और उसका प्रत्यर्पण कर भारत लाने के लिये अदालत में मामला चल रहा है। नीरव मोदी पंजाब नेशनल बैंक के 2 अरब डॉलर (करीब 15 हजार करोड़) के घोटाले में वांछित है। लंदन के वेस्टमिनिस्टर मजिस्ट्रेट के सामने सुनवाई जेल से वीडियो कॉल के माध्यम से होगी।

    अंतिम मुहर के लिए प्रीति पटेल के पास जाएगा मामला

    सुनवाई के बाद जज सेमुअल गूजी प्र‌र्त्यपण पर अपना फैसला देंगे। फैसले के बाद उस पर अंतिम मुहर लगाने के लिए यह मामला ब्रिटेन की गृह मंत्री प्रीति पटेल के पास जाएगा। नीरव मोदी को प्र‌र्त्यपण वारंट के संबंध में 19 मार्च 2019 को गिरफ्तार किया गया था। नीरव मोदी पर दो केस चल रहे हैं, इनमें से एक पंजाब नेशनल बैंक में धोखाधड़ी का मामला सीबीआइ और दूसरा मनी लांड्रिंग का मामला ईडी देख रही है।

    नीरव के वकीलों ने मानसिक बीमार होने के दावे किए 

    भारतीय एजेंसियों की ओर से क्राउन प्रोसीक्यूशन सर्विस (सीपीएस) मामले की पैरवी कर रहा है, जबकि नीरव मोदी की ओर से उसके वकीलों की टीम ने प्रत्यर्पण के खिलाफ तर्क दिए हैं। सीपीएस की बैरिस्टर हेलन मैल्कम ने कहा था कि मामला बिल्कुल स्पष्ट है। नीरव ने तीन भागीदारों वाली अपनी कंपनी के जरिये अरबों रुपये का बैंक घोटाला किया। जबकि बचाव पक्ष के वकीलों ने कहा कि मामला विवादित है। नीरव मोदी पर गलत आरोप लगाए गए हैं। प्रत्यर्पण से बचाव के लिए नीरव के वकीलों ने हीरा कारोबारी के मानसिक बीमार होने और मुंबई की जेल में सामान्य सुविधाएं न होने के दावे किए हैं।

  • डोंबिवली में बर्थ-डे पार्टी में कोविड नियमों का उल्‍लंघन, 500 लोगों पर केस दर्ज

    महाराष्ट्र के ठाणे जिले के डोंबिवली में जन्मदिन समारोह के लिए एकत्रित होकर COVID-19 नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में पुलिस ने 500 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। कल्याण डोम्बिवली नगर निगम (केडीएमसी) के अनुसार 17 और 18 फरवरी की रात डेसलपाड़ा में जन्मदिन की पार्टी का आयोजन किया गया था।

    केडीएमसी के वार्ड अधिकारी अक्षय गुड्गे को शिकायत मिली थी कि लोग कोरोनोवायरस मानदंडों का पालन किए बिना स्थानीय निवासी का जन्मदिन मनाने के लिए बड़ी संख्या में एकत्रित हुए थे। सभी लोग बिना मास्क के थे और शारिरिक दूरी का भी पालन नहीं किया जा रहा था। सूचना मिलते ही नगर निगम अधिकारियों ने परिसर का दौरा किया और बाद में में मेजबान और उपस्थित लोगों सहित लगभग 500 लोगों के खिलाफ मैनपाड़ा पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई।

    पुलिस ने उनके खिलाफ आईपीसी की धारा 269 और 270 (बीमारियों के संक्रमण फैलाने की लापरवाही और निंदनीय कृत्य), 188 (लोक सेवक द्वारा विधिवत आदेश देने के लिए अवज्ञा) और भीड़ के खिलाफ आपदा प्रबंधन नियंत्रण नियमों की धाराओं के तहत एक प्राथमिकी दर्ज की है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार इस संबंध में अब तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है।

    महाराष्ट्र में  कोरोना संक्रमण के  बढ़ रहे मामलों को देखते हुए महाविकास अघाड़ी सरकार ने विभिन्न क्षेत्रों में लॉकडाउन सहित नए कोरोनोवायरस दिशानिर्देशों की घोषणा की है। बता दें कि राज्य में वीरवार को 5,000 से अधिक कोरोना संक्रमण के मामले सामने आये हैं। कोविड संक्रमण को देखते हुए महाराष्ट्र के दो जिलो, अमरावती, और यवतमाल में, प्रतिबंध लगाए गए थे। यवतमाल में 10 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा की गई थी, वहीं अमरावती में सप्ताहांत में लॉकडाउन लगाया गया है।

  • Toolkit Matter: दिशा रवि की हाई कोर्ट में याचिका, निजी चैट लीक न करे दिल्ली पुलिस

    टूलकिट मामले में गिरफ्तार पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि ने दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दायर कर जांच से जुड़ी जानकारी, उनके निजी चैट किसी तीसरे पक्ष को उपलब्ध न कराने के संबंध में दिल्ली पुलिस को निर्देश देने की मांग की है। अधिवक्ता अभिनय शेखरी, संजना श्रीकुमार, वृंदा भंडारी के माध्यम से दायर याचिका में दिशा ने कहा है कि जांच से जुड़ी जानकारी मीडिया में लीक न करने के संबंध में पुलिस को निर्देश दिया जाए। साथ ही मीडिया को उनके निजी चैट प्रकाशित करने से भी रोका जाए।  बता दें कि मंगलवार को दिशा के आवेदन पर निचली अदालत ने उन्हें वकील करने, अपने परिजनों से बात करने, गर्म कपड़े, किताब व घर का खाना खाने की अनुमति दी थी।

    इससे पहले दिशा को शनिवार को बेंगलुरु से गिरफ्तार किया गया था। वर्तमान में वह पुलिस हिरासत में है। दिशा ने हिरासत में उक्त सामान देने की मांग करते हुए पटियाला हाउस कोर्ट में अर्जी दाखिल की थी। मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट पंकज शर्मा ने इसके अलावा टूलकिट मामले में एफआइआर, रिमांड एप्लिकेशन और अरेस्ट मेमो दिशा को उपलब्ध कराने की अनुमति दी थी।

    21 वर्षीय दिशा को किसानों के विरोध से संबंधित सोशल मीडिया पर कथित रूप से टूलकिट को संपादित करने और साझा करने के मामले में गिरफ्तार किया गया था। अदालत ने दिशा को पांच दिनों की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया था। दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने भारत सरकार के खिलाफ सामाजिक, सांस्कृतिक और आर्थिक युद्ध छेड़ने के लिए टूलकिट के खालिस्तान समर्थ रचनाकारों के खिलाफ एक एफआइआर दर्ज की थी।

    दिल्ली पुलिस द्वारा गिरफ्तार दिशा रवि टूलकिट गूगल डॉक की संपादक है और दस्तावेज के निर्माण और प्रसार में महत्वपूर्ण साजिशकर्ता है। पुलिस ने कहा कि उसने व्हाट्सएप ग्रुप शुरू किया और टूलकिट दस्तावेज बनाने के लिए दूसरों के साथ सहयोग किया। इस प्रक्रिया में उन्होंने ट्विटर पर भारत के खिलाफ नफरत फैलाने के लिए खालिस्तानी पोएटिक जस्टिस फाउंडेशन के साथ सहयोग किया। दिशा ने ही ग्रेटा थनबर्ग के साथ टूलकिट डॉक साझा किया था।

  • दो साल तक अमरेली के आश्रम साधू के भेष में रहा हत्यारा

    आजकल के अपराधी भी बदलते समय के साथ पुलिस को चकमा देने के नए-नए तरीके इजाद करते रहते हैं। कुछ ऐसा ही खुलासा गुजरात के अमरेली हुआ है, जहां एक अपराधी नौ हत्याएं करने के बाद जेल गया और जब पैरोल पर बाहर आया, तो फरार हो गया इसके बाद राज्य के अमरेली में जिले के राजुला गांव के छतलिया आश्रम में साधू बनकर रह रहा था। उसकी इस चालाकी का खुलासा तब हुआ, जब वह बीते दो फरवरी को यूपी के मेरठ से गिरफ्तार किया गया। बता दें कि संजीव ने हरियाणा के बरवाला से पूर्व विधायक रेलूराम पुनिया और परिवार के आठ लोगों की हत्या कर दी थी।

    आपको बता दें कि करीब बीस साल पहले 24 अगस्त 2001 को संजीव ने पत्नी सोनिया के साथ मिलकर हरियाणा के बरवाला से पूर्व विधायक रेलूराम पुनिया सहित उनके परिवार के आठ लोगों की हत्या कर दी थी। बाद में पता चला था कि दोनों ने इस वारदात को अंजाम देने के लिए एक योजना बनाई थी। जिसके मुताबिक दोनों ने अपने जन्मदिन पर फॉर्म हाउस पर एक पार्टी रखी थी। जहां पर उन्होंने पहले पूरे परिवार को नशीला पेय पिलाया था और बाद में लोहे के सरिए से सिर में वारकर एक के बाद एक सभी को मौत के घाट उतार दिया था।

    इस घटना के बाद पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया था। इसी मामले में हिसार के जिला सत्र न्यायाधीश ने 31 मई, 2004 को सोनिया और संजीव को फांसी की सजा सुनाई थी। बाद में कोर्ट ने उसे उम्रकैद में बदल दिया था। काफी साल बाद जून 2018 में संजय को पैरोल मिल गई थी जिसके बाद से वह फरार हो गया था लेकिन सोनिया अभी भी जेल में है। फरार होने के बाद संजीव गुजरात के अमरेली पहुंचा, जहां अपनी पहचान छिपाने के लिए साधू का भेष धारण कर लिया था।

    आरोपी संजीव उर्फ ओम आनंदगिरी अमरेली के राजुला में छतलिया आश्रम में रह रहा था। उसने 23 फरवरी 2020 को यहां कृषि महोत्‍सव का भी आयोजन किया था, जिसमें गुजरात राज्‍यपाल तथा कई साधु-संतों को भी आमंत्रित किया गया था।

    गौरतलब है कि 24 अगस्त 2001 को हुए इस सामूहिक हत्याकांड में संजीव और सोनिया ने रेलूराम पूनिया, पत्नी कृष्णा, बेटे सुनील, बहू शकुंतला, बेटी प्रियंका, 4 साल के पोते लोकेश, ढाई साल की पोती शिवानी और डेढ़ महीने की प्रीति की हत्या कर दी थी। वहीं, रेलूराम पूनिया साल 1996 में बरवाला सीट पर निर्दलीय उम्‍मीदवार के रूप में चुनाव जीतकर विधायक बने थे।

  • सामूहिक हत्‍याकांड के आरोपित को पुलिस ने दबोचा

    46 एकड़ जमीन की खातिर हिसार बरवाला के पूर्व विधायक तथा उनके परिवार के 8 सदस्‍यों के सामूहिक हत्‍याकांड के आरोप में अंबाला स्‍पेशल टास्‍क फोर्स तथा मेरठ पुलिस ने गुजरात के अमरेली में साधू के वेश में छिपे संजीव उर्फ ओम आनंदगिरी की धरपकड़ की है। संजीव ने अपनी पत्‍नी सो‍निया के साथ मिलकर अपने ससुर तथा उनके परिवार के सदस्‍यों की 2001 में हत्‍या कर दी थी।

    23 अगस्‍त 2001 में एक फार्म हाउस पर की थी हत्‍या

    सामूहिक हत्‍याकांड का आरोपी संजीव उर्फ ओम आनंदगिरी अमरेली के राजुला में छतलिया आश्रम बनाकर रह रहा था। हिसार बरवाला के पूर्व विधायक रेलुराम पूनिया व सात अन्‍य परिवार के सदस्‍यों की संजीव ने अपनी पत्‍नी सोनिया के साथ मिलकर 23 अगस्‍त 2001 में एक फार्म हाउस पर हत्‍या कर दी थी। सोनिया के जन्‍मदिन पर इन सभी परिजनों को फार्महाउस पर बुलाकर सोनिया व संजीव ने पहले उन्‍हें नशीला पदार्थ खिलाकर बेहोश कर दिया तथा बाद में एक एक को सिर में सरियों से वार कर मौत की नींद सुला दिया। हत्‍यारों ने इस दौरान जोरदार आतिशबाजी की ताकि इस भयानक हत्‍याकांड की किसी को भनक तक नहीं लगे।

    हत्‍या के आरोप में दोनों को स्‍थानीय अदालत ने फांसी की सजा सुनाई थी, जिसे बाद में आजीवन कैद में बदल दिया गया था लेकिन जून 2018 में पैरोल पर छूटकर संजीव वहां से भाग कर गुजरात आ गया। अंबाला स्‍पेशल टास्‍क फोर्स तथा मेरठ पुलिस ने उसे मेरठ हाइवे पर दबोचा, बाद में पूछताछ में पता चला कि वह गुजरात के आश्रम में साधु के वेश में छिपा था। राजुला के आश्रम के महंत का 5 साल पहले निधन हो गया था, पंजाब में उनके गुरुभाई ईश्‍वरानंद के माध्‍यम से संजीव यहां पहुंचा था। अमरेली के राजुला गांव के छतलिया आश्रम में  साधु के वेश में छिपा रहा। 23 फरवरी 2020 को संजीव उर्फ आनंदगिरी ने यहां कृषि महोत्‍सव का भी आयोजन किया जिसमें गुजरात राज्‍यपाल तथा कई साधु-संतों को भी आमंत्रित किया।

    आरोपी की थी, ससुर की 46 एकड़ जमीन पर नजर 

    संजीव की अपने ससुर रेलुराम की 46 एकड़ जमीन पर नजर थी। उसकी पत्‍नी सोनिया को आशंका थी कि पिता अपनी संपत्ति व जमीन अपनी पहली पत्‍नी के पुत्र सुनील के नाम कर देंगे। इसीलिए उसने पति के साथ मिलकर अगस्‍त 2001 में पिता रेलुराम पूनिया 50, माता कृष्‍णा देवी 41, भाई सुनील, बहन प्रियंका, भाभी शकुंतला सहित 3 अन्‍य बच्‍चों की हत्‍या कर दी थी। रेलुराम वर्ष 1996 में बरवाला सीट पर निर्दलीय उम्‍मीदवार के रूप में चुनाव जीते थे।

  • મુંબઈ નહીં સુરતમાં ધમધમતી પોર્ન ઈન્ડસ્ટ્રી

    મુંબઈના બહુચર્ચિત પોર્ન રેકેટમાં તનવીરની ધરપકડ:

    ગુજરાતનુ સુરત શહેર પોર્ન ફિલ્મોનું નવુ હબ બની ગયું છે. મુંબઈના ક્રાઈમ બ્રાન્ચ સામે સુરતના તનવીર હાશ્મીએ ચોંકાવનારા ખુલાસા કર્યાં

    મુંબઈમાં ચકચાર મચાવનાર પોર્ન ફિલ્મ રેકેટનું કનેક્શન સુરત સુધી પહોંચી ગયું છે. મુંબઈ ક્રાઈમ બ્રાન્ચે સુરતથી તન્વીર હાશમી નામના શખ્સની ભાટપોર  નજીકથી ધરપકડ કરી છે. ક્રાઈમ બ્રાન્ચના સૂત્રો અનુસાર, તનવીર પોર્ન ફિલ્મ મુવીઝને અલગ અલગ ઓ.ટી.ટી. એપ્સ પર અપલોડ કરવાનું કામ કરતો  હતો. પોર્ન ફિલ્મ કેસમાં આ મોટા અપડેટ છે.

    ગુજરાતનુ સુરત શહેર પોર્ન ફિલ્મોનું નવુ હબ બની ગયું છે. મુંબઈના ક્રાઈમ બ્રાન્ચ સામે સુરતના તનવીર હાશ્મીએ ચોંકાવનારા ખુલાસા કર્યાં છે. તનવીરને  સુરતમાંથી બુધવારના રોજ પકડવામાં આવ્યો છે. મુંબઈના બહુચર્ચિત પોર્નફિલ્મ રેકેટમાં આ નવા અપડેટ છે. તન્વીર હાશમી સુરતના ચોક બાઝાર ખાતે રહે  છે અને તે મુંબઈમાં પોર્ન ફિલ્મો બનાવતો હતો. મુંબઇ ક્રાઈમ બ્રાન્ચ ભાટપોર વિસ્તારથી તેને ઊંચકી ગઈ છે. ત્યારે તનવીરની પૂછપરછમાં મોટા ખુલાસા  થાય તેવી શક્યતા છે.

    મુંબઈના મોંઘાદાટ બંગલોમાંથી સુરતમાં શિફ્ટ થઈ પોર્ન ઈન્ડસ્ટ્રી

    પ્રાપ્ત માહિતી અનુસાર, પોર્ન ફિલ્મોની શુંટિંગ બંગલામા જ વધુ થતી હોય છે. મુંબઈના મોટાભાગના બંગલા મડ આઈલેન્ડમાં છે. જ્યાં ગત સપ્તામાં  ક્રાઈમ બ્રાન્ચે રેડ પાડી હતી અને પોર્ન  ફિલ્મની લાઈવ શુટિંગ દરમિયાન પાંચ લોકોની ધરપકડ કરી હતી. પરંતુ મડ આઈલેન્ડના બંગલાનું ભાડુ વધુ છે. તેથી  પોર્ન ફિલ્મોના બજેટને તે પોસાય તેમ નથી. તેથી આ ગ્રૂપે સુરત શહેર અને તેની બહારના કેટલાક બંગલાને મુંબઈની સરખામણીમાં સસ્તા ભાવે તેને રેન્ટ  પર લીધા હતા. અહી મુંબઈથી મોડલ્સ મંગાવીને નિયમિત પોર્ન શુટિંગ થવા લાગ્યું. બુધવારે પકડાયેલ તનવીર હાશ્મી પણ આ ગ્રૂપમાંનો એક સદસ્ય છે.

    ગહના વશિષ્ઠ બનાવતી હતી પોર્ન ફિલ્મ
    પૂછપરછમાં સામે આવ્યું કે, તનવીર ન્યુફ્લિક્સ ઓટીટી માટે આ ફિલ્મ બનાવતો હતો. જેના સાડા ચાર લાખથી પણ વધુ કસ્ટમર છે. ન્યુફ્લિક્સનો માલિક  હાલ ફરાર છે. આ કેસમાં પકડાયેલ મોડલ અને અભિનેત્રી ગહના વશિષ્ઠ પણ ફરાર આરોપી માટે પોર્ન ફિલ્મ બનાવતી હતી.

    15 એપ્સ માત્ર પોર્ન પિરસતુ હતું
    ક્રાઈમ બ્રાન્ચે તપાસ કરતા જાણવા મળ્યું કે, ગહના વશિષ્ઠની ખુદની પણ એક ઓ.ટી.ટી. એપ હતી, જેના 67 હજારથી વધુ સબ્સક્રાઈબર હતા. આ કેસમાં  પહેલી ધરપકડ યાસ્મીન ખાન નામની મહિલાની થઈ છે. તેની હોથિટ મૂવીઝ નામની એપ છે. મુંબઈ ક્રાઈમ બ્રાન્ચને તપાસમાં અંદાજે 15 એવા એપ  મળ્યા છે, જેમાં પોર્ન બતાવવામાં આવે છે. પોર્નનો બધો કારોબાર કેશમાં નહિ, પરંતુ ઓનલાઈન થતો હતો.

    File photo : ગહના વશિષ્ઠ
    File photo : ગહના વશિષ્ઠ
    File photo : ગહના વશિષ્ઠ
  • ट्रैक्टर रैली हिंसा का मास्टरमाइंड दीप सिद्धू गिरफ्तार

    दिल्ली में ट्रैक्टर रैली हिंसा के दौरान लाल किले पर केसरिया झंडा फहराने और उपद्रव को भड़काने के आरोपी अभिनेता दीप सिद्धू को दिल्ली पुलिस की स्पेशल टीम ने मंगलवार सुबह गिरफ्तार लिया। दीप सिद्धू 26 जनवरी को हुई हिंसा के बाद से फरार था। बता दें कि ट्रैक्टर रैली हिंसा के बाद फरार चल रहे दीप सिद्धू पर दिल्ली पुलिस ने 1 लाख रुपए का इनाम भी रखा था।

    बता दें कि जिस समय दिल्ली में दंगे हो रहे थे उस समय दीप सिद्धू लाल किले में ही मौजूद था और भड़काऊ भाषण दे रहा था। लेकिन, हिंसा होते ही वो फरार हो गया। पुलिस ने दीप सिद्धू के खिलाफ भी मामला दर्ज किया है उसकी LOC भी खोल दी गई है लेकिन वो है कहा ये अभी तक किसी को नहीं पता है। दीप सिद्धू पर जब पुलिस कमिश्नर से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि जो भी हिंसा में शामिल है उसे बक्शा नहीं जाएगा।

    सोशल मीडिया पर लगातार एक्टिव था
    हिंसा के बाद से दीप सिद्धू पुलिस के हाथ नहीं नहीं आ रही था लेकिन वो सोशल मीडिया पर लगातार एक्टिव था। दिल्ली से भागने के बाद दीप सिद्धू की लोकेशन हरियाणा थी उसके बाद उसकी लोकेशन पंजाब हो गई थी।

    कौन हैं दीप सिद्धू
    दीप सिद्धू पंजाबी फिल्मों के अभिनेता हैं और सामाजिक कार्यकर्ता भी। दीप ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत पंजाबी फिल्म रमता जोगी से की थी, जिसे लेकर कहा जाता है कि इसके निर्माता धर्मेंद्र हैं। दीप सिद्धू का जन्म साल 1984 में पंजाब के मुक्तसर जिले में हुआ है। दीप ने कानून की पढ़ाई की है। वह किंगफिशर मॉडल अवार्ड भी जीत चुके हैं। 17 जनवरी को सिख फॉर जस्टिस से जुड़े केस के सिलसिले में एनआईए ने सिद्धू को तलब भी किया था।

  • अभिनेत्री गहना वशिष्ठ को क्राइम ब्रांच की टीम ने किया गिरफ्तार

    अभिनेत्री गहना वशिष्ठ मुश्किलों में आ गई हैं। उनको मुंबई क्राइम ब्रांच की टीम ने गिरफ्तार किया है। गहना वशिष्ठ पर आरोप है कि वह एडल्ट वीडियो बनाती और अपनी वेबसाइट पर शेयर करती हैं। रविवार सुबह मुंबई क्राइम ब्रांच की प्रॉपर्टी सेल ने अभिनेत्री को गिरफ्तार किया है। आरोप है कि गहना वशिष्ठ ने 85 से ज्यादा एडल्ट वीडियो बनाए और उन्हें वेबसाइट पर शेयर भी किए हैं।

    न्यूज एजेंसी एएनआई की खबर के अनुसार गहना वशिष्ठ को क्राइम ब्रांच ने तीन लोगों की शिकायत के बाद गिरफ्तार किया है। इन तीन लोगों का आरोप है कि गहना वशिष्ठ ने उन्हें एडल्ट फिल्मों में काम करने के लिए मजबूर किया है। शिकायत के आधार पर मुंबई क्राइम ब्रांच ने अभिनेत्री के खिलाफ कार्रवाई की। अश्लील वीडियो बनाने और वेबसाइट पर शेयर करने के आरोप में गहना वशिष्ठ को रविवार मुंबई की एक अदालत में पेश किया जाएगा।

    अभिनेत्री गहना वशिष्ठ मुश्किलों में आ गई हैं। उनको मुंबई क्राइम ब्रांच की टीम ने गिरफ्तार किया है। गहना वशिष्ठ पर आरोप है कि वह एडल्ट वीडियो बनाती और अपनी वेबसाइट पर शेयर करती हैं। रविवार सुबह मुंबई क्राइम ब्रांच की प्रॉपर्टी सेल ने अभिनेत्री को गिरफ्तार किया है।

    वहीं टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार मुंबई पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि गहना ने 87 एडल्ट वीडियो बनाए हैं और उन्हें अपनी वेबसाइट पर अपलोड किया है। इन्हें देखने के लिए गहना वशिष्ठ ने पेड सब्सक्रिप्शन भी रखा हुआ था, जिसके लिए 2000 रुपये भुगतान करने होते हैं। इससे पहले पुलिस ने बताया कि शुक्रवार को मुंबई के मलाड-मालवानी इलाके के माढ स्थित ग्रीन पार्क नाम के एक बंगले पर छापेमारी की थी।

    इस दौरान पुलिस ने दो अभिनेताओं, एक लाइट मैंन, एक महिला फोटोग्राफर और एक ग्राफिक डिजाइनर को गिरफ्तार किया गया था। पुलिस ने छापेमारी में हाई डेफिनिशन वीडियो कैमरा, छह मोबाइल फोन, एक लैपटॉप, एक कैमरा स्टैंड और वीडियो क्लिप्स से भरा मेमोरी कार्ड भी जब्त किए हैं।

    मुंबई पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार क्राइम ब्रांच की टीम अन्य मॉडल, सह कलाकारों और कुछ प्रोडक्शन हाउस की भागीदारी की भी निगरानी कर रही है। इन सभी पर एडल्ट फिल्मों को मोबाइल ऐप और वेबसाइटों पर संपादित करके अपलोड करने का आरोप है। गौरतलब है कि गहना वशिष्ठ ने न केवल एडल्ट फिल्मों में अभिनय किया बल्कि उनकी निर्माता भी रही हैं। वह लंबे समय से एडल्ड फिल्मों को प्रोड्यूस कर चुकी हैं। आपको बता दें कि गहना वशिष्ठ मशहूर निर्माता-निर्देशक एकता कपूर की वेबसीरीज गंदी बात में अभिनय करके खूब सुर्खियां बटोर चुकी हैं।

Close
Website Design By Bootalpha.com +91 82529 92275
.